Wednesday, January 9, 2008

कुंवारेपन के फायदे :)

वर्त्तमान समय मेँ कुंवारे रहने वालो की संख्यां दिनों दिन बढ़ती जा रही है। युवक हो युवतियां, सभी अपने अकेलेपन मेँ खुश लगते है। शायद अकेले मेँ उन्हें अपने करियर के विकास की असीम संभावनाएं नजर आती है।

वैसे कुवंरेपन के भी अपने फायदे है, जो दुकले रहने मेँ नहीं मिल सकते। घर और बाहर, आप अपनी मरजी के मालिक है। अपने बिस्तर के दायीं और सोंयें या बायीं और, जल्दी सोयें या देर से, देर से सोके उठें या जल्दी, अपनी गाड़ी धीरे चलायें या तेज, खाना ताजा बनायें या दोनों समय का पकाकर फ्रिज मेँ रख दें, किसी से टेलीफोन पर लंबी बात करें या छोटी, इसकी पूरी आजादी रहती है।

अगर आप लड़की है तो कई और भी कई फायदे है जैसे- आपको शेंविग क्रीम से भरे झाग का मग नहीं धोना पड़ता, न ही इधर उधर बिखरे मर्दाने कपडे और गिला तौलिया उठाना पड़ता है, टेलीविजन का रिमोट आपके हाथों मेँ रहता है, याने जो चाहे कार्यक्रम देखें किसी को कोई एतराज नहीं, दूसरा कोई है ही नहीं:)

इसीलिए मेरे सभी कुंवारे कुवारियों के सलाह है की आप इस आजादी का भरपूर आनंद लें। अपने व्यक्तित्व को मनमाफिक संवारें, अपने करियर के लिए जीतनी चाहे दौड़ भाग करें, अपनी हौबी को आगे बढाये, आखिर ये सब आपकी अपनी मुट्ठी मेँ जो है।

अकेले आदमी को ब्रेक की बहुत जरुरत होती है। आपको भी समय समय पर छोटा या लम्बा ब्रेक लेना चाहिऐ। बजट के मुताबिक अपने शहर मेँ या पास के शहर या कभी विदेश भ्रमण पर निकल जाईये, आख़िर रोकने वाला कोई है जो नहीं।

इसके साथ ही अपने दिमाग को हमेशा चौकन्ना रखें। उत्त्साह और आशा को जीवन का मूलमंत्र बनायें। कभी कभी ऐसे लोगों को भी झेलना पड़ता है , जो मनमाफिक नहीं होते, उन्हें भी झेले। क्या पता इन भले बुरे लोगों मेँ ही कभी कोई ऐसा मिल जाये जो हमेशा कुंवारे रहने की जिद्द तुड़वाकर आपका जीवनसाथी बन जाये ....... ;)

6 comments:

Sanjeet Tripathi said...

एक्दमै सई है जी!!
अपन तो कुंवारे ही रहने का सोच रेले हैं इसी वास्ते!

Mired Mirage said...

बिलकुल ठीक बात है । कुँवारे या शादी शुदा होने के लाभ व हानि दोनों हैं । दोनों का ही लाभ उठाना चाहिये ।
घुघूती बासुती

अस्तित्व said...

जिदंगी की जीवन-धारा में दोनो पहलु ही एक अहम स्थान रखते है। बाकी भगवान की इच्छा जब होगी तब सब काम अपने आप ही आपको उस ओर अग्रसर करेंगे। आशा है जल्द ही कोई आपको जिद्द तुड़वाने वाला मिल जाये। शुभकामनाये।

छत्‍तीसगढिया said...

अरे वाह चयनिका जी, आपका हिन्‍दी ब्‍लाग भी है, हमें पता नहीं था ।
अब तो हम कुआंरे नहीं रहे जिनके दिन है वो मजे करें ।

संजीव

Remmish Gupta said...

वाह वाह!
चयनिकाजी, आपने तो कमाल ही कर दिया!
एक तो इतने दिनों बाद कुछ लिखा, उस पर भी कुंवारी ज़िन्दगी की सारी सच्चाई ही बयां कर दिया आपने... मज़ा आ गया.
शुभ कामनाएं!

राजीव जैन Rajeev Jain said...

अपन के पास तीसरा ईलाज भी है

यानी कि दो ऐसे ही कलाकार मिल जाएं

तो जीवन सफल ! वैसे खूब लिखा आपने