Sunday, August 31, 2008

जज्बात




अपने जज्बात को,
नाहक ही सजा देती हूँ...

होते ही शाम,
चरागों को बुझा देती हूँ...



जब राहत का,
मिलता ना बहाना कोई...

लिखती हूँ हथेली पे नाम तेरा,
लिख के मिटा देती हूँ......................

18 comments:

devlal thakur देवलाल ठाकुर said...

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति कविता के माध्यम से की है आपने , आपके ब्लॉग को पढ़कर,एवं दांडी मार्च के फोटो ,हम सभी युवाओ को कांग्रेस की रीति निति को समझने एवं शोषण के खिलाफ संघर्ष करने हेतु प्रेरक का कार्य करेगी ...पुन:श्च ब्लॉग लेखन के लिए बधाई

國倫老師Teacher said...

That's actually really cool!!AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,性愛,a片,AV女優,聊天室,情色

Anonymous said...

really cute lines

Prarthana gupta said...

BEAUTIFULL EXPRESSION!!!!!!!!!1

परावाणी : Aravind Pandey said...

Bahut Sundar likha aapne..

Shivjeet Yaduvansi "shivi" said...

bahut achhi rachana hai...

Nikhil Roshan said...

Awesome...

Manisha said...

Beautiful lines...jitna kaha jaye utna kam hai aapne kam shabdo mebahut kah diya

Priyanka Vaishnav said...

Yun luga jese dil k saare jajbaat blog pe ubhar aaye he... :) lovely lines...

VEDANT said...

it's really good

akshay said...

wha kay bat hai yar! but itna gam kis bat ka ha... cool

Pravin Dubey said...

बहुत सुन्दर...

prabhakar said...

बचपन में कुछ इसी तरह का शेर सुना था
********
अपने जज्बात को हम यूँ भी सजा देते है,
नाम लिखते है तेरा और लिख के मिटा देते हैं.
********
to me you are a right person, at right time in wrong political party.

Best of luck

amrendra "amar" said...

बहुत खूबसूरती से अपने भावो को उकेरा है .......बधाई*****

Ajay Bramhe said...

nice one.

Pandit Lalit Mohan Kagdiyal said...

शाम होते ही चिरागों को बुझा देता हूँ
मेरा दिल ही काफी है तेरी याद में जलने के लिए.

डॉ. मनोज मिश्र said...

बहुत ही संवेदनशील रचना,आभार.

Anonymous said...

aapka vakai kya kahna...bhot pyari kavita hai...